कर्जदारों को राहत! आपकी ऋण किस्त में कोई वृद्धि नहीं, आरबीआई रेपो दर में कोई बदलाव नहीं..

RBI Monetary Policy June 2023 : मुंबई: हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक की क्रेडिट पॉलिसी कमेटी की बैठक हुई. आरबीआई की क्रेडिट पॉलिसी की यह बैठक 6, 7, 8 जून को हुई थी और इस बैठक में लिए गए फैसले के मुताबिक रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में बदलाव नहीं करने का फैसला किया है. यानी ऐसी स्थिति में कर्जदार की बकाया राशि नहीं बढ़ेगी। चालू वित्त वर्ष की दूसरी नीति बैठक में, आरबीआई ने लगातार दूसरी बार ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया। इससे पहले अप्रैल महीने में भी ब्याज दर में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई थी। रेपो रेट में पिछली बार फरवरी में 25 बेसिस पॉइंट की बढ़ोतरी की गई थी।

पिछले साल से सभी तरह के लोन पर ब्याज दरें बढ़ी हैं, जिसका सीधा असर बैंकों द्वारा ग्राहकों को दिए जाने वाले कर्ज पर पड़ा है. बैंकों ने सभी श्रेणियों के ऋणों पर ब्याज दरों में वृद्धि की, चाहे वह व्यक्तिगत ऋण हो, कार ऋण हो, गृह ऋण हो या शिक्षा ऋण हो। मई 2022 से आरबीआई ने रेपो रेट में लगातार बढ़ोतरी की है तो बैंकों ने भी कर्ज पर ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है. लेकिन साल के दौरान रेपो रेट में बढ़ोतरी का एक फायदा यह हुआ कि बैंक डिपॉजिट पर ब्याज दर में बढ़ोतरी हुई। इसके अलावा बैंकों ने निवेशकों को आकर्षित करने के लिए लॉन्ग टर्म एफडी पर ब्याज दरें बढ़ाने का भी फैसला किया है। यही वजह है कि बैंक एफडी पर इस समय काफी अच्छी ब्याज दरें मिल रही हैं।

रेपो रेट में 2.5% की बढ़ोतरी
पिछले वर्षों में लगातार बढ़ती महंगाई दर को नियंत्रित करने के लिए आरबीआई ने ब्याज दरों में वृद्धि की है। मई 2022 से प्रमुख ब्याज दर या रेपो दर 6.50 प्रतिशत पर पहुंच गई थी। इसलिए पिछली बैठक (अप्रैल 2023) में भी आरबीआई की मौद्रिक समिति ने रेपो रेट में बदलाव नहीं किया। आरबीआई ने महंगाई को नियंत्रित करने के लिए मई 2022 से फरवरी 2023 के बीच रेपो रेट में कुल 2.5% की बढ़ोतरी की। इसके बाद, आरबीआई ने अपनी अप्रैल की बैठक में प्रमुख ब्याज दरों में बढ़ोतरी पर रोक लगा दी।

महंगाई दर 5 फीसदी से नीचे
मौजूदा समय में महंगाई दर 5 फीसदी से नीचे है और अप्रैल के आंकड़े इस बात की गवाही देते हैं। अप्रैल में खुदरा महंगाई दर 4.70% थी, जो मार्च में 5.6% थी। इसका मतलब है कि महंगाई के आंकड़े दो महीने में आरबीआई की तय सीमा से नीचे आ गए हैं। जानकारों की मानें तो इसकी वजह यह है कि आरबीआई इस बार महंगाई के आंकड़ों का अनुमान घटा सकता है। आरबीआई मानसून और अल नीनो पर भी नजर रखेगा, क्योंकि इन दोनों कारकों से आने वाले समय में महंगाई बढ़ने की संभावना है।

रेपो रेट क्या है?
जिस दर पर आरबीआई बैंकों को पैसा उधार देता है, उसे रेपो रेट कहा जाता है। रेपो रेट बढ़ने से बैंकों को आरबीआई से महंगी दरों पर कर्ज मिलेगा। इससे होम लोन, कार लोन और पर्सनल लोन आदि पर ब्याज दरें बढ़ जाती हैं, जिसका सीधा असर आपकी ईएमआई पर पड़ेगा।

You might also like